Posts

Yes! I am Bold || Stop Body-shaming!!

Image
These Bold Anti- Body-shaming Paintings by Visual Artist Rishabh Are Impossible to Ignore.


'Swapnil Saundarya' For a Cause : Stop Body-shaming!!
Yes ! I Am Bold
#body #bodyshaming #size #shape #colour#bodypositive #lovethyself

In an effort to shine a spotlight on body shaming indifference, Visual Artist- Interior Designer Rishabh aka Painter Babu  has created a series of “Anti- body shaming Paintings ”—that include bold language about the realities and prevalence of  body shaming .

YES ! I AM BOLD  is a collection of paintings by Interior Designer, Painter and Arts Journalist  Rishabh that speak out against  Body-shaming 

~ YES ! I AM BOLD ~  Stop Body-shaming 






Humor does not always conjure smiles. When used in a wrong manner, humor sometimes can be very twisted and affect someone’s life to the core. One such type of humor is body shaming, which is a corrosive trend that has become one of the most damaging forces in today’s world.
These days, people do not seem to find anything wrong i…

Be Social with Priyanka ॥ Part III || by Swapnil Saundarya ezine

Image
SWAPNIL   SAUNDARYA  e-zine  
( Vol- 05, Year - 2018, SPECIAL ISSUE  )
Presents
Be Social with Priyanka
Part :: III





सामाजिक मुद्दों के विभिन्न पहलू  ..........

Read Now :: Be Social with Priyanka



भारत एक प्राचीन देश है .यदि इसके उद्भव की बात की जाए तो हमारे देश की सभ्यता लगभग 5000 वर्ष पुरानी है . इसलिए भारतीय समाज की प्रकृति बहुत ही जटिल व पुरानी है.
भारत देश विभिन्न जातियों, धर्मों , सम्प्रदायों का मिश्रण है.इसलिए हम यहां पर विभिन्नता में एकता की बात करते हैं. कहते हैं समाज जितना सरल होगा ...सामाजिक मुद्दे उतने ही कम होंगे. लेकिन हमारे समाज का ढाँचा अत्यंत जटिल है व सामाजिक मुद्दों की संख्या भी उतनी ही ज्यादा है. सामाजिक मुद्दों के अंतर्गत गरीबी, बेरोजगारी , भ्रष्टाचार , बाल विवाह, महिलाओं के साथ होने वाले दुराचार, आतंकवाद आदि समस्याएं शामिल हैं. ये सभी मुद्दे अत्यंत गंभीर हैं व इनकी प्रकृति बहुत जटिल है. अत: एक ही समय पर विभिन्न विषयों पर विचार विमर्श करना संभव नहीं हो सकता लेकिन इन सामाजिक मुद्दों को एक दूसरे से भिन्न भी नहीं कर सकते क्योंकि ये सभी मुद्दे एक दूसरे को प्रभावित करते हैं. 
हम…