Posts

Showing posts from February, 2016

Laavanya - IV :: Kuchipudi Dancer ~Haleem Khan

Image
SWAPNIL  SAUNDARYA  PUBLICATIONS

Presents 

Laavanya ~IV


K U C H I P U D I   D A N C E R   ‘H A L E E M   K H A N’
( From the Desk of Swapnil Saundarya e zine )

READ NOW :: 
http://issuu.com/swapnilsaundaryaezine/docs/laavanya___kuchipudi_dancer_haleem_




K U C H I P U D I   D A N C E R    ‘HALEEM  KHAN’







लावण्या ~ ( Laavanya : IV ) 

ज़िद ,जुनून ,प्रतिभा व संघर्ष की अनुपम मिसाल  - हलीम खान






नृत्य का इतिहास अति प्राचीन है. मोहनजोदड़ो और हड़्प्पा की खुदाई में प्राप्त नृत्य करती मूर्तियाँ इसकी प्राचीनता सिद्ध करती हैं. वेद, पुराण, रामायण, महाभारत आदि ग्रंथों में नृत्य का उल्लेख मिलता है . कौटिल्य ने तो नृत्यकार को इतना महत्व दिया है कि उसने एक स्थान पर लिखा है कि नृत्य के साधकों को राज्याश्रय मिलना चाहिये . राज्य की ओर से उनकी सब प्रकार की व्यवस्था करा देनी चाहिये जिससे कि वे नृत्य साधना ठीक प्रकार से कर सकें.

कुचिपुड़ी नृत्य (Kuchipudi Dance ), आठ भारतीय शास्त्रीय नृत्यों में से एक है. यह आंध्र प्रदेश का शास्त्रीय नृत्य है .यह संपूर्ण दक्षिण भारत में भी प्रख्यात है . कुचिपुड़ी , कृष्ण जिला के दिव…